केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला :सौर मंडल के बाहर जीवन की खोज को समर्पित वेधशाला


केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला

केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला नासा का सौर मंडल से बाहर पृथ्वी सदृश ग्रहों को खोजने का अबतक का सबसे सफ़ल अभियान रहा है। इस अभियान का नाम महान खगोल शास्त्री योहानस केप्लर को समर्पित था। इसे 7 मार्च 2009 को अंतरिक्ष मे भेजा गया था और अपने 9 वर्षो के अभियान के पश्चात इसे 30 अक्टूबर 2018 को सेवानिवृत्त कर दिया गया।

इस अभियान को हमारी आकाशगंगा मंदाकिनी(Milky Way) के एक विशिष्ट भाग का निरीक्षण कर उसमे पृथ्वी के आकार के तथा मातृतारे के जीवन योग्य क्षेत्र मे ग्रहों की खोज के लिये बनाया गया था। इसके एक उद्देश्य मे हमारी आकाशगंगा मे पृथ्वी सदृश ग्रहों की संख्या का अनुमान लगाना भी था। केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला मे मुख्य उपकरण एक फोटोमीटर था जोकि लगभग 15,000 मुख्य अनुक्रम के तारे (Main Sequence Star) की रोशनी का निरीक्षण कर उसमे आने वाली निश्चित आवृत्ति (नियमित अंतराल)मे कमी/बढोत्तरी के आंकड़ो को पृथ्वी पर विश्लेषण के लिये भेजता था। किसी तारे के प्रकाश मे एक निश्चित अंतराल मे प्रकाश मे होने वाली कमी उस तारे के सामने से किसी ग्रह के गुजरने से होती है, यह कमी उस तारे की परिक्रमा करते ग्रह का एक संकेत होती है।


यह अभियान नौ वर्षो तक सक्रिय रहा, 30 अक्टूबर 2018 को इंधन की समाप्ति तक इस वेधशाला ने 530,506 तारों का निरीक्षण किया और इन तारों की परिक्रमा करते हुये 2,662 ग्रहों की खोज की।

अभियान की समयरेखा

इस अंतरिक्ष वेधशाला का प्रक्षेपण जनवरी 2006 मे तय हुआ था लेकिन नासा के बजट कट और अन्य समस्याओं के कारण इसे आठ महीने पोस्टपोन किया गया। बाद मे अन्य तकनीकी और बजट की वजहो से इस प्रोजेक्ट मे देरी होते रही। अंत मे 7 मार्च 2009 को केप केनावेरल अंतरिक्ष केंद्र फ़्लोरीडा से डेल्टा III राकेट से इसे अंतरिक्ष मे प्रक्षेपित कर दिया गया।

केप्लर द्वारा निरीक्षण किया जानेवाला क्षेत्र

केप्लर द्वारा निरीक्षण किया जानेवाला क्षेत्र

7 अप्रैल 2009 को इस अंतरिक्ष दूरबीन का ढक्कन हटाया गया और 8 अप्रैल को इसने प्रथम चित्र लिये। इस अंतरिक्ष वेधशाला ने सौर मंडल के बाहर अन्य तारो के पास पृथ्वी सदृश ग्रहों को खोजने का अपना अभियान 13 मई 2009 को प्रारंभ किया।
सौर मंडल बाह्य ग्रहो की खोज मे केप्लर ने सबसे पहले आंकड़े 19 जुन 2009 को भेजे।

केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला ने ग्रहों की खोज आकाश मे एक स्थिर क्षेत्र मे ही की है। साथ मे दिये गये चित्र मे इस क्षेत्र के खगोलीय निर्देशांक दिये है। केप्लर आकाश मे 115 वर्ग डीग्री के क्षेत्र मे ग्रहो की खोज मे लगा था, जो कि आकाश का केवल 0.25% है। समस्त आकाश के निरीक्षण के लिये हमे 400 केप्लर दूरबीन चाहीये होंगी। केप्लर दूरबीन के खोज वाले क्षेत्र मे हंस(सिग्नस), विणा(लायरा) और शिशुमार( ड्रेको) तारामंडलो का कुछ भाग का भी समावेश है।

केप्लर अभियान के लक्ष्य

केप्लर अभियान का वैज्ञानिक उद्देश्य ग्रहीय प्रणालीयो की संरचना और विविधता का अध्ययन था। यह वेधशाला विभिन्न तारों का निरीक्षण निम्नलिखित लक्ष्यो को ध्यान मे रख कर कर रही थी।

  1. विभिन्न वर्णक्रम वाले तारो के जीवनयोग्य क्षेत्र मे (गोल्डीलाक ज़ोन) मे या निकट मे पृथ्वी के आकार के और बड़े ग्रहों की संख्या का निर्धारण
  2. इन ग्रहो के आकार और कक्षा की प्रकृति मे विविधता का अध्ययन
  3. एकाधिक तारा प्रणाली मे ग्रहों की संख्या का अनुमान लगाना
  4. कम कक्षीय अवधी वाले महाकाय ग्रहो की कक्षा के आकार, दीप्ति, आकार , द्रव्यमान तथा घनत्व का अध्ययन
  5. हर खोजी गई ग्रहीय प्रणाली के अन्य सदस्यो की खोज
  6. जीवन योग्य ग्रहो के तारो के गुणधर्मो का अध्ययन

 

केप्लर अभियान से पहले अन्य सभी अभियानो मे पाये गये अधिकतर ग्रह बृहस्पति सदृश महाकाय ग्रह थे। केप्लर को इस तरह से बनाया गया था कि वह बृहस्पति से 30 से 600 गुणा कम द्रव्यमान वाले पृथ्वी के जैसे द्रव्यमान के ग्रह की खोज कर। बृहस्पति पृथ्वी से 318 गुणा अधिक द्रव्यमान रखता है।

केप्लर वेधशाला ग्रहों की खोज के लिये संक्रमण विधि का प्रयोग करती है।

संक्रमण विधि(Transit Photometry)

ग्रहो की खोज की संक्रमण विधी

ग्रहो की खोज की संक्रमण विधी

जब कोई अपने मातृ तारे के सामने से गुजरता है तो वह अपने मातृ तारे के प्रकाश को किंचित रूप से मंद करता है। तारे तथा पृथ्वी के मध्य से ग्रह के गुजरने को संक्रमण(Transit) कहा जाता है। तारे के प्रकाश मे यदि एक नियत अंतराल पर कमी आती है तो यह किसी ग्रह के द्वारा नियत अंतराल पर तारे के सामने से गुजरने का संकेत होता है। प्रकाश मे आने वाली कमी की मात्रा से ग्रह के आकार का भी पता लगाया जा सकता है, एक छोटा ग्रह तारे के प्रकाश मे किसी बड़े ग्रह की तुलना मे अपेक्षाकृत रूप से कम मंदी लाता है।

गुण

किसी सौर बाह्य ग्रह की खोज की सबसे संवेदनशील विधि; विशेषत: केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला जैसे उपकरणो के लिये यह सर्वोत्तम विधि है। इस वेधशाला ने अबतक इस विधि से हजारो सौर बाह्य ग्रह खोजे है। इस विधि के द्वारा सौर बाह्य ग्रह के वातावरण मे विभिन्न गैसो की उपस्थिति और मात्रा को भी ज्ञात किया जा सकता है। सैकड़ो प्रकाशवर्ष की दूरी पर तारों के ग्रहों की खोज के लिये बेहतरीन विधि है।

कठिनाईयाँ

इस विधि से ग्रह की खोज मे निरीक्षण काल मे संक्रमण होना चाहिये। दो संक्रमणो के मध्य अंतराल उस ग्रह के अपनी कक्षा मे परिक्रमा काल के अनुसार महिनो से लेकर वर्षो तक हो सकता है तथा संक्रमण कुछ घंटो से लेकर कुछ दिनो तक का हो सकता है। इस विधि मे खगोल वैज्ञानिको को एक नही, एकाधिक संक्रमण का एक नियमित अंतराल मे निरीक्षण करना होता है।

ग्रहों की खोज प्रक्रिया

केप्लर वेधशाला तथा पृथ्वी पर आंकड़ो के विश्लेषण करने वाली टीम ग्रहों की खोज और पुष्टी के लिये एक जटिल बहुचरणीय प्रक्रिया का प्रयोग करती है। इस प्रक्रिया मे दो चरण होते है।

1 ग्रह के उम्मीदवारो की खोज

इस चरण मे केप्लर द्वारा भेजे गये आंकड़ो का विभिन्न साफ़्टवेयरो द्वारा विश्लेषण होता है। इस विश्लेषण मे ग्रह द्वारा तारे के प्रकाश मे नियमित अंतराल मे संक्रमण के द्वारा कमी को देखा जाता है। इस प्रक्रिया मे विभिन्न जांचो द्वारा सफ़ल होने वाली घटनाओ को केप्लर अभिरुची पिंड(Keplar Object of Interest) कहा जाता है। इसके बाद इन उम्मीदवारो को एक विशिष्ट प्रक्रिया विस्थापन(Dispositioning) गुजारा जाता है। इस जांच मे सफ़ल उम्मीद्वारों को केप्लर ग्रह उम्मीदवार कहा जाता है।

2 ग्रह उम्मीदवार की पुष्टि

इन केप्लर ग्रह उम्मीदवारो का पुन: निरीक्षण किया जाता है। इस पुन: निरीक्षण के आंकड़ो के विश्लेषण से ग्रह होने की पुष्टि होती है।

किसी अन्य विधि द्वारा ग्रह होने की पुष्टि

कुछ विशिष्ट ग्रह उम्मीदवारों के लिये ग्रह खोजने की अन्य तकनीको जैसे कोणिय गति(Radial Velocity), गुरुत्विय माइक्रोलेंसींग(Gravitational Microlensing), आस्ट्रोमेटरी(Astrometry)या कक्षीय दीप्ति(Orbital Brightness) के प्रयोग से ग्रह होने की पुष्टि की जाती है।

आंकड़ो की जांच
यदि ग्रह उम्मीदवार की किसी अन्य विधि से पुष्टि संभव नही होती है तो केप्लर के द्वारा प्राप्त आंकड़ो की पुनः जांच की जाती है कि जिससे गलती की किसी संभावना को दूर किया जा सके।

केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला का डिजाईन

केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला का द्रव्यमान 1,039 किग्रा है और इसमे एक स्कमिट कैमरा(Schmidt Camera)लगा हुआ है। इस कैमरे मे 0.95 मिटर का लेंस तथा 1.4 मिटर व्यास का प्राथमिक दर्पण है।

कैमरा

इस कैमरे का फ़ोकल प्रतल 50 × 25 mm (2 × 1 in) CCD के 42 टुकड़ो से बना है, हर टूकड़ा 2200 x 1024 पिक्सेल का है जोकि इस कैमरे को 94.6 मेगापिक्सेल का बनाता है। इस फ़ोकस प्रतल के शीतलन के लिये बाह्य रेडीयेटर से जुड़े उष्मा पाइप लगे हुये है। इन CCD के आंकड़ो को हर 6.5 सेकंड मे पढ़ा जाता है और कम चमक वाले तारों के लिये निरिक्षण को 58,89 सेकंड तक जारी रखा जाता है जबकि अधिक चमक वाले तारों के लिये इसे 1765.5 सेकंड तक निरीक्षण किया जाता है। इसके पश्चात इन आंकड़ो को संकुचित(compress) कर यान मे 16 GB के सोलिड स्टेट रिकार्डर मे रखा जाता है। इस रिकार्डर से आंकड़ो को पृथ्वी पर भेजा जाता है।

मुख्य दर्पण

केप्लर का प्राथमिक दर्पन 1.4 मीटर व्यास का है और उसे विख्यात कांच के निर्माता कार्निंग(Corning) ने अत्यंत कम विस्तार होने वाले कांच( ultra-low expansion (ULE) glass)से बनाया है। इस दर्पण का द्रव्यमान साधारण कांच से बने समान आकार के दर्पण की तुलना मे केवल 14% ही है।

कक्षा और दिशा

केप्लर की कक्षा नीला-पृथ्वी, गुलाबी -केप्लर, पीला-सूर्य

केप्लर सूर्य की परिक्रमा करता है जो कि पृथ्वी की कक्षा के उपग्रहो पर पड़्ने वाले प्रभाव जैसे किसी भी तरह के ग्रहण, आवारा प्रकाश तथा गुरुत्विय प्रभाव से मुक्त है। नासा के अनुसार केप्लर की कक्षा पृथ्वी से पिछड़ती कक्षा है। केप्लर सूर्य की परिक्रमा 372.5 दिन मे करता है, हर वर्ष केप्लर पृथ्वी से दूर होते जा रहा है। मई 2018 मे केप्लर की पृथ्वी से दूरी 0.917 AU(13.7 करोड़ किमी) थी।

इस वेधशाला की दिशा ऐसी है कि इसमे कभी भी सूर्यप्रकाश का प्रवेश नही होता है। यह हंस(सिग्नस), विणा(लायरा) और शिशुमार( ड्रेको) तारामंडल की ओर निरीक्षण कर रहा है। यह दिशा सौर मंडल के आकाशगंगा केंद्र की परिक्रमा की दिशा भी है तथा आकाशगंगा के प्रतल मे ही है। केप्लर द्वारा निरीक्षित तारो की आकाशगंगा के तारो की दूरी भी सौरमंडल और आकाशगंगा के केंद्र की दूरी के समान ही है।

संचालन

केप्लर द्वारा निरीक्षण किया जानेवाला क्षेत्र

केप्लर द्वारा निरीक्षण किया जानेवाला क्षेत्र

केप्लर वेधशाला का संचालन लेबोरेटरी फ़ार एटमासफ़ियर और स्पेस फ़िजिक्स(Laboratory for Atmospheric and Space Physics (LASP)) द्वारा बोल्डर, कोलोरोडो (Boulder, Colorado)से किया जा रहा है। यान के नियत्रण और संचालन के लिये संचार X बैंड पर किया आता है, यह सप्ताह मे दो बार होता है। यान से निरीक्षण के आंकड़े महिने मे एक बार Ka बैंड से 55kB/s की दर से होता है। केप्लर अंतरिक्ष यान आंकड़ो का आंशिक विश्लेषण यान मे ही कर लेता है बैंडविड्थ बचाने के लिये संसाधित आंकड़े ही पृथ्वी पर भेजता है।

केप्लर द्वारा की गई महत्वपूर्ण खोजें

केप्लर वेधशाला 2009 से 2018 तक 9.6 साल अंतरिक्ष में सक्रीय रही। इसने 5,30,506 तारों का अवलोकन किया। इसमें से 2,663 ग्रहों की पुष्टि की गई है। इस अंतरिक्ष वेधशाला से सबसे पहले परिणाम 4 जनवरी 2010 को घोषित किये गये थे।

2009

6 अगस्त 2009 को नासा की प्रेस कांफ़्रेंस मे पहले से खोजे गये ग्रह HAT-P-7b की केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला के आंकड़ो से पुष्टि की घोषणा की गई। इसमे यह भी घोषणा हुई कि केप्लर पृथ्वी सदृश ग्रहो की खोज संभव है।
इस वेधशाला से प्राप्त पहले छः सप्ताह के आंकड़ो से तारे के अत्यंत समीप परिक्रमा करने वाले पांच नये ग्रहों की खोज हुई, इसमे सबसे महत्वपूर्ण यह था कि खोजे गये नये ग्रहों मे एक अधिक घनत्व था। अन्य महत्वपूर्ण खोजो मे दो कम द्रव्यमान के श्वेत वामन तारे तथा एक नया ग्रह केप्लर 16b है जो युग्म तारों की परिक्रमा कर रहा है।

2010

4 जुन 2010 को 15,600 लक्षित तारो मे से 400 तारो को छोड सभी के निरीक्षण के आंकड़े सार्वजनिक किये गये। इनमे से 706 तारों के पास पृथ्वी से लेकर बृहस्पति तक के आकार के ग्रहों की उपस्थिति के प्रमाण थे। इन 706 तारों मे से 306 तारों की पहचान सार्वजनिक की गई थी। इनमे से पांच तारों के पास एकाधिक ग्रह थे। यह आंकड़े केवल 33.5 दिनो के निरीक्षण के थे। नासा ने 400 तारो के निरीक्षण के आंकड़ो को पूर्ण विश्लेषण ना हो पाने के कारण रोक रखा था।
2010 मे प्रकाशित आंकड़ो से पता चला कि अधिकतर ग्रह उम्मीदवार का व्यास बृहस्पति से आधा है। इन परिणामो से यह भी पता चला कि छोटे उम्मीदवार ग्रहो की परिक्रमा अवधि 30 दिन से कम होना बड़े ग्रह की परिक्रमा अवधि के 30 दिनो से कम होने से भी अधिक सामान्य है।

केप्लर से प्राप्त आंकड़ो से अनुमान लगाया गया कि हमारी आकाशगंगा मे कम से कम 10 करोड़ ग्रह जीवन के लिये अनुकुल परिस्थिति लिये हुए होंगे।

2011

2 फ़रवरी 2011 को केप्लर टीम ने 2 मई और 16 सितंबर 2009 के मध्य प्राप्त आंकड़ो के विश्लेषण से प्राप्त परिणामो को प्रकाशित किया। उन्होने 997 मातृ तारों की परिक्रमा करते 1235 ग्रहों की खोज की घोषणा की। इनमे से 68 पृथ्वी तुल्य आकार के, 288 महापृथ्वी आकार, 662 नेपच्युन आकार, 165 बृहस्पति के आकार तथा 19 बृहस्पति से दोगुने आकार के ग्रह थे। इससे पहले के प्राप्त आंकड़ो के विपरीत 74% से अधिक ग्रह नेपच्युन से छोटे पाये गये।

यह भी पाया गया कि 1235 मे से 54 ग्रह अपने मातृ तारे के जीवन योग्य क्षेत्र मे परिक्रमा कर रहे थे जिसमे से 5 पृथ्वी के दोगुने आकार से छोटे ग्रह थे। इससे पहले केवल दो ग्रह जीवनयोग्य क्षेत्र मे पाये गये थे। यह एक उत्साह वर्धक खोज थी।

5 दिसंबर 2011 तक केप्लर टीम ने बताया कि उन्होने 2,326 ग्रह उम्मीदवार खोजे है, जिसमे 207 पृथ्वी सदृश, 680 महापृथ्वी आकार, 1181 नेपच्युन आकार के, 203 बृहस्पति आकार के तथा 55 ग्रह बृहस्पति से बड़े पाये गये।

20 दिसंबर 2011 को केप्लर टीम ने पहले पृथ्वी के आकार के ग्रह केप्लर 20e तथा 20f पाए जाने की घोषणा की जोकि सूर्य के जैसे तारे केप्लर 20 की परिक्रमा कर रहे है।

केप्लर से प्राप्त इन आंकड़ो से उत्साहित होकर सेठ शोस्टक ने अनुमान लगाया कि पृथ्वी से हजार प्रकाशवर्ष दूरी के अंदर ही कम से कम 30,000 जीवन योग्य ग्रह होंगे।

2012

जनवरी 2012 मे खगोल वैज्ञानिको ने अनुमान लगाया कि हमारी आकाशगंगा मंदाकिनी मे औसत रूप से प्रतितारा 1,6 ग्रह है जिसके अनुसार हमारी आकाशगंगा मे कम से कम 160 अरब ग्रह होना चाहिये।

वर्ष के अंत तक कुल 2,321 ग्रह के उम्मीदवार थे जिनमे 207 पृथ्वी सदृश, 680 महापृथ्वी आकार, 1181 नेपच्युन आकार के, 203 बृहस्पति आकार के तथा 55 ग्रह बृहस्पति से बड़े पाये गये। इनमे से 48 ग्रह जीवन योग्य क्षेत्र मे थे।

2013

जनवरी 2013 मे काल्टेक के खगोलशास्त्रीयों ने अनुमान लगाया कि हमारी आकाशगंगा मे 100-400 अरब ग्रह होना चाहीये, यह अनुमान केप्लर 32 तारे के निरीक्षण के आधार पर था। 7 जनवरी को ही 461 नये ग्रह उम्मीदवारो की घोषणा हुई।

7 जनवरी को केप्लर 69c की घोषणा हुई जो कि सूर्य जैसे तारे के जीवन योग्य क्षेत्र मे परिक्रमा कर रहा है।

अप्रैल 2013 मे अपने मातृ तारे के जीवन योग्य क्षेत्र मे तीन पृथ्वी के आकार के ग्रहो केप्लर62e केप्लर62f तथा केप्लर69c की खोज की घोषणा हुई जो अपने क्रमश: केप्लर62 तथा केप्लर69 की परिक्रमा कर रहे है। इन ग्रहों मे द्रव जल की उपस्थिति की संभावना अधिक है।

2013 मे पता चला कि केप्लर के तीन रीएक्शन व्हील मे से दूसरा रीएक्शन व्हील भी काम नही कर रहा है, एक व्हील ने पहले ही काम करना बंद कर दिया था। ये व्हील केप्लर को सही दिशा मे रखने का कार्य करते है। इससे नई खोज होने की संभावना पर आघात लगा लेकिन बाद मे वैज्ञानिको ने बताया कि वे क्षतिग्रस्त व्हील के बावजूद केप्लर का उपयोग कर पायेंगे।

2014

13 फ़रवरी को अतिरिक्त 503 ग्रह उम्मीदवारों की घोषणा हुई। इनमे से बहुत से पृथ्वी के आकार के और जीवनयोग्य क्षेत्र मे है। जुन 2014 मे इस आंकड़े मे 400 की वृद्धी हुई।

26 फ़रवरी को केप्लर टीम ने 715 ग्रहो की पुष्टी की। इसमे से चार ग्रह जिसमे केप्लर 296f का समावेश है पृथ्वी के ढाई गुणे से कम के आकार के है और जीवन योग्य क्षेत्र मे है। इन पर द्रव जल और जीवन की संभावना है।

17 अप्रैल को केप्लर टीम ने केप्लर186f की खोज की घोषणा की जो पृथ्वी के आकार का जीवन योग्य क्षेत्र मे पहला खोजा ग्रह था यह ग्रह एक लाल वामन तारे की कक्षा मे है।

2015

जनवरी 2015 मे पुष्टी हो चुके ग्रहों की संख्या 1000 पार हो गई। इनमे से कम से कम दो केप्लर438b तथा केप्लर 442b चट्टानी ग्रह है और जीवनयोग्य क्षेत्र मे है। इसी समय नासा ने घोषणा की कि पांच पुष्टि हो चुके ग्रह शुक्र ग्रह के आकार के है और 11.2 अरब वर्ष उम्र के तारे केप्लर 444 की परिक्रमा कर रहे है। यह इस तारा प्रणाली को ब्रह्माण्ड की आयु का 80% उम्र का बनाता है।

24 जुलाई को नासा ने केप्लर 452b ने पृथ्वी के आकार के ग्रह की पुष्टी जो सूर्य के जैसे तारे के जीवन योग्य क्षेत्र मे परिक्रमा कर रहा है।

14 2015 को खगोलशास्त्री ने एक विचित्र तारे KIC 8462852 के प्रकाश मे असामान्य प्रकाश मंदी की घोषणा की। इसके लिये कई परिकप्लनाये प्रस्तुत की गई है जिनमे धुमकेतुओं के झुंड, क्षुद्रग्रहो तथा विकसित एलियन सभ्यता का समावेश है।

2016

मई 10 तक केप्लर अभियान ने 1,284 नये ग्रहों की पुष्टि की है जिसमे आकार के आधार पर 550 ग्रह चट्टानी होना चाहीये, जिसमे से नौ अपने मातृ तारे के जीवन योग्य क्षेत्र मे है।

ये है केप्लर-560b, केप्लर-705b,केप्लर-1229b, केप्लर-1410b, केप्लर-1455b, केप्लर-1544b, केप्लर-1593b, केप्लर-1606b, केप्लर-1638b

अभियान का अंत

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का ग्रहों की खोज करने वाला केपलर अंतरिक्ष वेधशाला का अभियान समाप्त हो गया है। यह दूरबीन 9 साल की सेवा के बाद सेवा निवृत्त होने वाला है। वैज्ञानिकों ने बताया है कि 2,600 ग्रहों की खोज में मदद करने वाले केपलर दूरबीन का ईंधन खत्म हो गया है इसलिए उसे रिटायर किया जा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि 2009 में स्थापित इस दूरबीन ने हजारो छुपे हुए ग्रहों से हमें अवगत कराया और ब्रह्मांड की हमारी समझ को बेहतर बनाया।

नासा की ओर से जारी बयान के अनुसार, केपलर ने दिखाया कि रात में आकाश में दिखने वाले 20 से 50 प्रतिशत तारों के सौरमंडल में पृथ्वी के आकार के ग्रह हैं और वे अपने तारों के रहने योग्य क्षेत्र के भीतर स्थित हैं। इसका मतलब है कि वे अपने तारों से इतनी दूरी पर स्थित हैं, जहां इन ग्रहों पर जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण पानी के होने की संभावना है।

नासा के एस्ट्रोफिजिक्स विभाग के निदेशक पॉल हर्ट्ज का कहना है कि केपलर का जाना कोई अनपेक्षित नहीं था। केपलर का ईंधन खत्म होने के संकेत करीब दो सप्ताह पहले ही मिले थे। उसका ईंधन पूरी तरह से खत्म होने से पहले ही वैज्ञानिक उसके पास मौजूद सारा डेटा एकत्र करने में सफल रहे। नासा का कहना है कि फिलहाल केपलर धरती से दूर सुरक्षित कक्षा में है। नासा केपलर के ट्विटर हैंडल से इसके बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए ट्वीट भी किया गया।

इसके मुताबिक यह वेधशाला 9.6 साल अंतरिक्ष में रही। 5,30,506 तारों का अवलोकन किया। इसमें से 2,663 ग्रहों की पुष्टि की गई।

Advertisements

केप्लर अंतरिक्ष वेधशाला :सौर मंडल के बाहर जीवन की खोज को समर्पित वेधशाला&rdquo पर एक विचार;

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन नींद ख़ामोशियों पर छाने लगी – ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है…. आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी….. आभार…

    पसंद करें

इस लेख पर आपकी राय:(टिप्पणी माड़रेशन के कारण आपकी टिप्पणी/प्रश्न प्रकाशित होने मे समय लगेगा, कृपया धीरज रखें)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s