क्वांटम क्रान्ति (2022 भौतिकी नोबेल): किस तरह एन्टेंगलमेन्ट एक शक्तिशाली उपकरण बन गया है


2022 के भौतिकी नोबेल पुरस्कार विजेता एलेन अस्पेक्ट(Alain Aspect), जॉन ऍफ़ क्लाउसर( John F. Clauser) और एंटन ज़िलिंगेर(Anton Zeilinger) ने अभूतपूर्व प्रयोगों का उपयोग करते हुए एन्टेंगल्ड अवस्था में कणों की जांच और नियंत्रण करने की क्षमता का प्रदर्शन किया है। एन्टेंगल्ड अवस्था के जोड़े में एक कण के साथ जो होता है वह निर्धारित करता है कि दूसरे के साथ क्या होगा, भले ही वे वास्तव में एक दूसरे को प्रभावित करने के लिए अत्याधिक दूर हों। नोबेल विजेताओं द्वारा प्रायोगिक उपकरणों के विकास ने क्वांटम प्रौद्योगिकी के एक नए युग की नींव रखी है।

अब क्वांटम यांत्रिकी के मूल सिद्धांत केवल सैद्धांतिक या दार्शनिक मुद्दे नहीं हैं। वे प्रायोगिक और वास्तविकता के धरातल पर आ चुके है, वर्त्तमान में क्वांटम कंप्यूटर बनाने, मापन में सुधार करने, क्वांटम नेटवर्क बनाने और सुरक्षित क्वांटम एन्क्रिप्टेड संचार स्थापित करने के लिए व्यक्तिगत कण प्रणालियों के विशेष गुणों का उपयोग करने के लिए गहन शोध और विकास चल रहा है।

क्वांटम यांत्रिकी दो या दो से अधिक कणों को एक साझा अवस्था में मौजूद रहने की अनुमति देता है, भले ही वे कितनी दूर हों। इसे एन्टेंगल्डमेन्ट कहा जाता है। इस सिद्धांत की खोज के बाद से ही यह यह क्वांटम यांत्रिकी के सबसे विवादित सिद्धांतो में से एक रहा है। अल्बर्ट आइंस्टीन ने इसे दूरी पर विचित्र व्यवहार(spooky action at distance ) कहा था जबकि इरविन श्रोडिंगर ने कहा कि यह क्वांटम यांत्रिकी का सबसे महत्वपूर्ण गुण था।

इस वर्ष के विजेताओं ने इन एन्टेंगल्ड क्वांटम अवस्थाओं का अध्ययन किया है, और उनके प्रयोगों ने क्वांटम प्रौद्योगिकी में वर्तमान में चल रही क्रांति की नींव रखी है ।

रोजमर्रा के अनुभव से दूर

क्वांटम विश्व विचित्र है। इसमें जो होता है वह रोजमर्रा के जीवन से अलग होता है, हमारी सहज बुद्धि कार्य नहीं करती है। जब दो कण एन्टेंगल्ड क्वांटम अवस्थाओं में होते हैं, उस समय यदि हम एक कण के किसी गुण को मापते है, तब हम बिना जाँच के तुरंत दूसरे कण पर उसी गुण के माप को निर्धारित कर सकते है।

जो चीज क्वांटम यांत्रिकी को इतना विचित्र बनाती है, वह यह है कि मापन/निरिक्षण से पहले तक किसी भी कण की कोई निर्धारित अवस्था नहीं होती है। यह ऐसा है कि दो धूसर गेंद में से एक गेंद का रंग तब तक धूसर नहीं होगा जब तक कि कोई उनमें से एक को न देख ले। इसमें एक गेंद अनियमित तरीके से काले रंग को ले सकती है या खुद को सफेद दिखा सकती है। दूसरी गेंद तुरंत विपरीत रंग में बदल जाती है।

लेकिन यह कैसे पता चल सकता है कि शुरुआत में प्रत्येक गेंद का एक निश्चित रंग नहीं था? भले ही वे धूसर दिखाई दें, शायद उनके अंदर एक छिपा हुआ लेबल था, जिसमें लिखा था कि जब कोई उन्हें देखेगा तो उन्हें किस रंग में दिखना चाहिए।

जब कोई नहीं देख रहा है तो क्या रंग मौजूद है ?

क्वांटम यांत्रिकी के एन्टेंगल्ड जोड़े की तुलना उस मशीन से की जा सकती है जो विपरीत रंगों की गेंदों को विपरीत दिशाओं में फेंकती है। जब बॉब एक ​​गेंद को पकड़ता है और देखता है कि वह काली है, तो वह तुरंत जानता है कि ऐलिस ने एक सफेद गेंद पकड़ी है।

हमारे पास दो सम्भावनाये है, छिपे हुए चर जो इन कणो को निर्देश देते है, या क्वांटम यांत्रिक।

छिपे हुए चर वाले सिद्धांत के अनुसार गेंदों में हमेशा छिपी हुई जानकारी होती है कि किस रंग को दिखाना है। हालांकि, क्वांटम यांत्रिकी का कहना है कि जब तक कोई उनकी ओर नहीं देखता, तब तक गेंदें भूरी थीं, जैसे ही किसी ने उन्हें देखा अनियमित रूप से एक सफेद और दूसरी काली हो गई। इन दोनों में अंतर कैसे स्पष्ट किया जाए ? किस तरह से हम जाने कि क्या सही है ?

बेल असमानताएं के अनुसार इन मामलों में अंतर कर सकने वाले प्रयोगो का सेटअप किया जा सकता हैं। इस तरह के प्रयोगों ने साबित कर दिया है कि क्वांटम यांत्रिकी का विवरण सही है।

एक सैद्धांतिक नियम है जिसे बेल असमानताएं कहा जाता है, यह सिद्धांत इस वर्ष के भौतिकी के नोबेल पुरस्कार से पुरस्कृत किए जा रहे शोध का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। बेल असमानताओं के द्वारा हम जान सकते है कि क्वांटम स्टार पर परिणाम क्वांटम यांत्रिकी की अनिश्चितता से नियंत्रित होते है या वे किसी गुप्त निर्देशों (या छिपे हुए चर) से नियंत्रित होते है। असमानताएं का उपयोग करके इन दोनों के मध्य अंतर करना संभव हुआ हैं। प्रयोगों से पता चला है कि प्रकृति क्वांटम यांत्रिकी द्वारा भविष्यवाणी के अनुसार व्यवहार करती है। सभी गेंदें धूसर होती हैं, उनमे रंग निर्धारित करने कोई गुप्त जानकारी नहीं होती है, और प्रयोग में कौन सी गेंद काली होगी और कौनसी सफ़ेद यह केवल प्रायिकता निर्धारित करती है।

क्वांटम यांत्रिकी का सबसे महत्वपूर्ण संसाधन

एन्टेंगल्ड अवस्था में सूचनाओं के भंडारण, हस्तांतरण और प्रसंस्करण के नए तरीकों की संभावना है।

दिलचस्प बात यह है कि अगर एन्टेंगल्ड अवस्था में जोड़े के कण विपरीत दिशाओं में यात्रा करते हैं और उनमें से एक तीसरे कण से इस तरह मिलता है कि वे एन्टेंगल्ड हो जाते हैं। अब वे एक नई साझा स्थिति में प्रवेश करते हैं। तीसरा कण अपनी पहचान खो देता है, लेकिन इस तीसरे कण में मूल जोड़ी के गुणों को ले लिया है। मूल जोड़ी के मूल गुणों को अब एकल कण में स्थानांतरित कर दिया गया है। अज्ञात क्वांटम अवस्था को एक कण से दूसरे कण में स्थानांतरित करने का यह तरीका क्वांटम टेलीपोर्टेशन कहलाता है। इस प्रकार का प्रयोग पहली बार 1997 में एंटोन ज़िलिंगर और उनके सहयोगियों द्वारा किया गया था।

उल्लेखनीय रूप से, क्वांटम टेलीपोर्टेशन क्वांटम सूचना को इसके किसी भी हिस्से को खोए बिना एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम में स्थानांतरित करने का एकमात्र तरीका है। क्वांटम सिस्टम के सभी गुणों को मापना और फिर इस सिस्टम के पुनर्निर्माण के लिए प्राप्तकर्ता को सूचना भेजना बिल्कुल असंभव है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक क्वांटम सिस्टम में एक साथ हर गुणधर्म के कई संस्करण हो सकते हैं, जहां प्रत्येक संस्करण में माप के दौरान प्रदर्शित होने की एक निश्चित संभावना होती है। जैसे ही माप किया जाता है, केवल एक संस्करण रहता है, अर्थात् वह जो मापक यंत्र द्वारा पढ़ा गया था। अन्य संस्करण गायब हो जाते हैं और उनके बारे में कुछ भी जानना असंभव है। हालांकि, पूरी तरह से अज्ञात क्वांटम गुणों को क्वांटम टेलीपोर्टेशन का उपयोग करके स्थानांतरित किया जा सकता है और दूसरे कण में बरकरार दिखाई दे सकता है, लेकिन वह मूल कण में नष्ट होने की कीमत पर होगा।

जब एन्टेंगल्ड अवस्था वाले एक जोड़ी कणो में यह प्रयोगात्मक रूप से कर लिया गया तो अगला कदम दो जोड़े में एन्टेंगल्ड अवस्था वाले कणों का उपयोग करना था। यदि प्रत्येक जोड़े में से एक कण को ​​एक विशेष तरीके से एक साथ लाया जाता है, तो प्रत्येक जोड़े में अविच्छिन्न कण एक-दूसरे के संपर्क में न होते हुए भी एन्टेंगल्ड हो सकते हैं। इस एन्टेंगल्ड अवस्था की अदला-बदली को पहली बार 1998 में एंटोन ज़िलिंगर के शोध समूह द्वारा प्रदर्शित किया गया था।

प्रकाश के कण अर्थात फोटॉन के एन्टेंगल्ड जोड़े को ऑप्टिकल फाइबर के माध्यम से विपरीत दिशाओं में भेजे जा सकता हैं और वे क्वांटम नेटवर्क में सिग्नल के रूप में कार्य कर सकते हैं। दो जोड़े के बीच एन्टेंगल्ड अवस्था के द्वारा ऐसे नेटवर्क में नोड्स के बीच की दूरी को बढ़ाना संभव बनाता है। फोटॉन को अवशोषित होने या उनके गुणों को खोने से पहले ऑप्टिकल फाइबर के माध्यम से भेजे जाने की दूरी की एक सीमा है । रास्ते में साधारण प्रकाश संकेतों को एम्प्लिफाई किया जाता है, लेकिन यह एन्टेंगल्ड अवस्था के जोड़े के साथ काम नहीं करता है। एम्पलीफायर को प्रकाश को पकड़ना और मापना होता है, जो एन्टेंगल्ड अवस्था को तोड़ता है। हालांकि, एन्टेंगल्ड अवस्था की अदला-बदली का मतलब है कि मूल स्थिति को और आगे भेजना संभव है, जिससे इसे अधिक दूरी पर स्थानांतरित किया जा सकता है, जो अब तक संभव नहीं था।

एन्टेंगल्ड अवस्था के ऐसे कण जो कभी एक दूसरे से नहीं मिले


एन्टेंगल्ड अवस्था के कणों के दो जोड़े अलग-अलग स्रोतों से उत्सर्जित होते हैं। प्रत्येक जोड़ी से एक कण को ​​एक विशेष तरीके से एक साथ लाया जाता है जो उन्हें एन्टेंगल्ड अवस्था में लाता है। फिर दो अन्य कण (आरेख में 1 और 4) भी उलझ जाते हैं। इस तरह दो कण जो कभी संपर्क में नहीं रहे, आपस में एन्टेंगल्ड अवस्था में आ सकते हैं।

विरोधाभास से असमानता तक

यह प्रगति कई वर्षों के विकास पर टिकी हुई है। यह सब एक ऐसी विचित्र जानकारी के साथ शुरू हुआ कि क्वांटम यांत्रिकी एक एकल क्वांटम प्रणाली को उन हिस्सों में विभाजित करने की अनुमति देता है जो एक दूसरे से अलग होते हुए भी एक इकाई के रूप में कार्य करते हैं।

यह एक अजीब सिद्धांत है जो कारण और प्रभाव तथा साधारण विश्व के रोजमर्रा की सामान्य बातों के खिलाफ जाता है। बिना किसी संकेत के किसी अन्य स्थान पर घटित होने वाली घटना से कोई चीज कैसे प्रभावित हो सकती है? एक संकेत प्रकाश की तुलना में तेजी से यात्रा नहीं कर सकता है – लेकिन क्वांटम यांत्रिकी के अनुसार विस्तारित प्रणाली के विभिन्न भागों को जोड़ने के लिए संकेत की कोई आवश्यकता नहीं होती है।

अल्बर्ट आइंस्टीन ने इसे संभव नहीं माना और अपने सहयोगियों बोरिस पोडॉल्स्की और नाथन रोसेन के साथ इस घटना की चर्चा की। उन्होंने 1935 में अपना तर्क प्रस्तुत किया: क्वांटम यांत्रिकी वास्तविकता का पूरा विवरण प्रदान नहीं करता है। शोधकर्ताओं के आद्याक्षर के बाद इसे ईपीआर विरोधाभास( EPR पैराडॉक्स) कहा गया है।

प्रश्न था कि क्या विश्व की ऐसी कई परिभाषा हो सकती है जिसमे क्वांटम यांत्रिकी सिर्फ एक हिस्सा हो । उदाहरण के लिए, क्या कणों के माध्यम से किया गए प्रयोग के परिणाम में वही आएगा जो कण अपने अंदर छिपे निर्देश के रूप में रखे हुए है, वो वही दिखाएँगे जो उन निर्देशों के अनुसार होगा? सभी मापन जिन गुणों को दिखाते हैं जो ठीक उसी स्थान पर और समय पर निर्मित होते हैं जब मापन किए जाते हैं। इस प्रकार की जानकारी को अक्सर स्थानीय छिपे हुए चर(local hidden variables) कहा जाता है।

सर्न, यूरोपीय कण भौतिकी प्रयोगशाला में कार्यरत उत्तरी आयरिश भौतिक विज्ञानी जॉन स्टीवर्ट बेल (1928-1990) ने इस समस्या पर करीब से नज़र डाली। उन्होंने पाया कि एक विशिष्ट प्रयोग निर्धारित कर सकता है कि क्या विश्व विशुद्ध रूप से क्वांटम यांत्रिक है, या उसे किसे छिपे हुए चर से नियंत्रित किया जाता है। यदि इस प्रयोग को कई बार दोहराया जाता है, तो छिपे हुए चर वाले सभी सिद्धांत परिणामों के बीच एक सहसंबंध(correlation ) दिखाना चाहिए, इस सहसंबंध का किसी विशिष्ट मान से कम या अधिक से अधिक बराबर होना चाहिए। इसे बेल की असमानता(Bell’s inequality.) कहते हैं।

हालांकि, क्वांटम यांत्रिकी इस असमानता का उल्लंघन कर सकती है। इसके अनुसार क्वांटम यांत्रिकी से परिणामों के प्रभावित होने की सम्भावना छिपे हुए चर के माध्यम से संभव परिणामों से अधिक है ।

जॉन क्लॉसर 1960 के दशक में एक छात्र के रूप में क्वांटम यांत्रिकी के मूल सिद्धांतों में रुचि रखते थे। एक बार जब उन्होंने इसके बारे में पढ़ लिया तो वे जॉन बेल के विचार से हिल नहीं सके और अंततः, उन्होंने तीन अन्य शोधकर्ता के साथ एक यथार्थवादी प्रकार के प्रयोग का प्रस्ताव लाया जिसका उपयोग बेल असमानता के परीक्षण करने के लिए किया जा सकता है।

इस प्रयोग में एन्टेंगल्ड अवस्था के कणों के एक जोड़े को विपरीत दिशाओं में भेजना शामिल है। फोटॉनों में ध्रुवीकरण नामक गुण होता है जिसका इस प्रयोग में उपयोग किया जाता है। जब कण उत्सर्जित होते हैं तो ध्रुवीकरण की दिशा अनिश्चित होती है लेकिन यह तय है कि सभी कणों का एक ही दिशा में ध्रुवीकरण होता है। एक फिल्टर का उपयोग करके इसकी जांच की जा सकती है जो ध्रुवीकरण एक ही दिशा में हुआ है (देखें आकृति बेल असमानताओं के साथ प्रयोग)। इस गुण का धूप के चश्मे में उपयोग किया जाता है जिसमे एक विशिष्ट दिशा वाले ध्रुवीकृत प्रकाश को अवरुद्ध किया जाता है।

यदि प्रयोग के दोनों कणों को एक ही दिशा में उन्मुख फिल्टर(उदाहरण के लिए लम्बवत) की ओर भेजा जाता है और एक कण उस फ़िल्टर को पार कर लेगा तो तो दूसरा भी गुजर जाएगा। यदि वे फ़िल्टर एक दूसरे के समकोण पर हैं, तब यदि एक कण को फ़िल्टर रोक देते है तो दूसरा कण गुजर जाएगा। लेकिन तिरछे कोणों पर अलग-अलग दिशाओं में सेट किए गए फिल्टर के साथ मापने के प्रयास में परिणाम भिन्न हो सकते हैं: कभी-कभी दोनों पार हो जाते हैं, कभी-कभी सिर्फ एक पार हो जाता है और कभी-कभी कोई नहीं। फिल्टर के माध्यम से दोनों कण कितनी बार पार होते हैं यह फिल्टर के बीच के कोण पर निर्भर करता है।

क्वांटम यांत्रिकी मापन के बीच सहसंबंध की ओर ले जाती है। हालांकि एक कण के पार होने की संभावना फिल्टर के कोण पर निर्भर करती है जिससे पता चलता है कि उस कण के साथी कण का ध्रुवीकरण प्रायोगिक सेटअप के विपरीत था। इसका मतलब यह है कि दोनों मापन के परिणाम यदि कुछ कोणों पर बेल असमानता का उल्लंघन करते हैं तो यह स्थापित होता है कि परिणाम छिपे हुए चर द्वारा शासित होते हैं और वे कणों के उत्सर्जित होने पर पहले से ही पूर्व निर्धारित होते हैं।

असमानता उल्लंघन

जॉन क्लॉजर ने तुरंत इस प्रयोग पर काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने एक ऐसा उपकरण बनाया जो एक समय में दो उलझे हुए फोटॉन उत्सर्जित करता था, हर कण को ध्रुवीकरण के मापन के लिए एक फिल्टर की ओर भेजा जाता है। 1972 में, डॉक्टरेट छात्र स्टुअर्ट फ्रीडमैन (1944–2012) के साथ वे बेल असमानता का स्पष्ट उल्लंघन वाले परिणाम के निरिक्षण में सफल हो गए। यह परिणाम क्वांटम यांत्रिकी की भविष्यवाणियों के अनुसार ही था।

बाद के वर्षों में, जॉन क्लॉसर और अन्य भौतिकविदों ने इस प्रयोग और इसकी सीमाओं पर चर्चा जारी रखी। इस प्रयोग की सबसे बड़ी समस्या कणो के उत्सर्जन और मापन में थी, यह प्रयोग इन दोनों में अकुशल था। इस प्रयोग में फ़िल्टर के कोण भी पूर्व-निर्धारित थे। इस प्रयोग सेटअप में ऐसी सीमाएं थीं कि आलोचक आसानी से परिणामों पर सवाल उठा सकता था: जैसे कि इस प्रायोगिक सेटअप ने किसी तरह से उन्ही कणों का चयन किया जो परिणामों के अनुरूप थे और अन्य कणो का पता नहीं लगा पाया? यदि ऐसा है, तो कण अभी भी छिपी हुई जानकारी या निर्देशों के अनुसार कार्य कर रहे हों।

इस विशेष खामी को ठीक करना मुश्किल था, क्योंकि एन्टेंगल्ड क्वांटम अवस्थाएं नाजुक और नियंत्रण करने में मुश्किल होती हैं; लेकिन हर फोटॉन का मापन आवश्यक है। फ्रांसीसी डॉक्टरेट छात्र एलेन एस्पेक्ट डरे नहीं थे, और उन्होंने सेटअप का एक नया संस्करण बनाया जिसे उन्होंने कई पुनरावृत्तियों पर परिष्कृत किया। अपने प्रयोग में, वह उन फोटोन की जांच कर सकता था जो फिल्टर से गुजरते थे और उनका भी जो फ़िल्टर से नहीं गुजरते थे। इसका मतलब था कि अधिक फोटॉन की जांच होती थी और मापन बेहतर था।

अपने प्रायोगिक सेटअप के अंतिम संस्करण में, वह फोटॉन को दो अलग-अलग फ़िल्टरों की ओर ले जाने में सक्षम थे जो अलग-अलग कोणों पर सेट किए गए थे। यह एक ऐसा तंत्र था जिसने अपने स्रोत से निर्मित और उत्सर्जित होने के बाद एन्टेंगल्ड अवस्था के फोटॉन की दिशा बदल दी। इस सेटअप में फिल्टर सिर्फ छह मीटर दूर थे, इसलिए स्विच एक सेकंड के कुछ अरबवें हिस्से में होना चाहिए। यदि विशिष्ट स्रोत से उत्सर्जित होने फोटॉन के विशिष्ट फ़िल्टर पर पहुंचने या ना पहुंचने के रास्ते की संभावना को समाप्त कर दिया। साथ ही उन्होंने प्रयोग के एक तरफ के फिल्टर के बारे में जानकारी दूसरी तरफ पहुंच माप के परिणाम को प्रभावित कर सकने की संभावना समाप्त कर दी।

इस तरह, एलेन एस्पेक्ट ने प्रयोग की एक महत्वपूर्ण खामी को बंद कर दिया और एक बहुत स्पष्ट परिणाम प्रदान किया: क्वांटम यांत्रिकी सही है और कोई छिपे हुए चर नहीं हैं।

क्वांटम सूचना का युग


इस और इसी तरह के अन्य प्रयोगों ने क्वांटम सूचना विज्ञान में वर्तमान गहन शोध की नींव रखी।

क्वांटम अवस्थाओं और उनके गुणों की सभी सम्भावनाओ में बदलाव और नियंत्रण करने में सक्षम होने से हमें अप्रत्याशित क्षमता वाले उपकरणों तक पहुंच मिलती है। यह क्वांटम गणना, क्वांटम जानकारी के हस्तांतरण और भंडारण, और क्वांटम एन्क्रिप्शन के लिए एल्गोरिदम का आधार है। वर्तमान में दो से अधिक एन्टेंगल्ड अवस्था वाले कणों के सिस्टम उपयोग में हैं। इन उपकरणों को एंटोन ज़िलिंगर और उनके सहयोगियों ने सबसे पहले खोजा था।

बेल असमानताओं के साथ प्रयोग

जॉन क्लॉसर ने कैल्शियम परमाणुओं का इस्तेमाल किया जो कि एक विशिष्ट आवृत्ति वाले प्रकाश से प्रकाशित होने पर एन्टेंगल्ड अवस्था वाले फोटॉन का उत्सर्जन कर सकते थे। उन्होंने फोटॉन के ध्रुवीकरण को मापने के लिए दोनों तरफ एक फिल्टर स्थापित किया। प्रायोगिक मापन की एक श्रृंखला के बाद उन्होंने प्रमाणित किया कि बेल असमानता का उल्लंघन हो रहा है।

एलन एस्पेक्ट ने परमाणुओं को ऊर्जा प्रदान करने के एक नए तरीके का उपयोग करते हुए उच्च दर पर एन्टेंगल्ड अवस्था वाले फोटॉन का उत्सर्जन करने वाले प्रयोग को विकसित किया । वे विभिन्न सेटिंग्स के बीच बदलाव भी कर सकते था, इसलिए सिस्टम में परिणामों को प्रभावित कर सकने वाला कई कारक नहीं होता था।

एंटोन ज़िलिंगर ने बाद में बेल असमानताओं के और परीक्षण किए। उन्होंने एक विशेष क्रिस्टल पर एक लेजर चमकाकर फोटॉन के एन्टेंगल्ड अवस्था वाले जोड़े बनाए, और मापन सेटिंग्स के बीच परिवर्तन करने के लिए यादृच्छिक (रैंडम)संख्याओं का उपयोग किया। एक प्रयोग में फिल्टर को नियंत्रित करने के लिए दूर की आकाशगंगाओं से संकेतों का उपयोग किया और यह सुनिश्चित किया कि संकेत एक दूसरे को प्रभावित नहीं कर सकते।

ये तेजी से परिष्कृत उपकरण वास्तविक प्रायोगिक विश्व में क्वांटम यांत्रिकी के अनुप्रयोगों को संभव बनाते है। क्वांटम अवस्थाओं को अब दसियों किलोमीटर ऑप्टिकल फाइबर के माध्यम से , एक उपग्रह और जमीन पर एक स्टेशन के मध्य सफलतापूर्वक भेजा जा चुका है। थोड़े समय में, विश्व भर के शोधकर्ताओं ने क्वांटम यांत्रिकी की सबसे शक्तिशाली गुणों का उपयोग करने के कई नए तरीके खोजे हैं।

पहली क्वांटम क्रांति ने हमें ट्रांजिस्टर और लेजर दिए, लेकिन अब हम एक नए युग में प्रवेश कर रहे हैं, जिसमे क्रान्ति एन्टेंगल्ड अवस्था वाले कणों के माध्यम से आएगी।

क्वांटम क्रान्ति (2022 भौतिकी नोबेल): किस तरह एन्टेंगलमेन्ट एक शक्तिशाली उपकरण बन गया है&rdquo पर एक विचार;

  1. आलेख समझने में थोड़ा क्लिष्ट हो गया है – वैज्ञानिक शोधपत्र की तरह.
    पर यह जरूर समझ में आया कि – “अब हम एक नए युग में प्रवेश कर रहे हैं, जिसमे क्रान्ति एन्टेंगल्ड अवस्था वाले कणों के माध्यम से आएगी।”
    पर, चूंकि जटिलताएँ बहुत हैं, तो शायद लोकोपयोग में आने में इस तकनीक को दसियों साल और लगेंगे ऐसा लगता है. क्योंकि क्वांटम कंप्यूटर की संभावना या परिकल्पना के बारे में तो पिछले दो दशकों से सुनते आ रहे हैं!

    Liked by 1 व्यक्ति

इस लेख पर आपकी राय:(टिप्पणी माड़रेशन के कारण आपकी टिप्पणी/प्रश्न प्रकाशित होने मे समय लगेगा, कृपया धीरज रखें)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s