नयी मानव प्रजाति की खोज : होमो नालेदी(Homo Naledi)


दक्षिण अफ़्रीका में वैज्ञानिकों ने गुफ़ाओं में बनी क़ब्रों में मानव जैसी नई प्रजाति खोजी है। वैज्ञानिकों ने 15 आंशिक कंकाल पाए गए हैं. जिसे अफ़्रीका में इस तरह की अब तक की सबसे बड़ी खोज बताया जा रहा है। शोधकर्ताओं का दावा है कि ये खोज हमारे पूर्वजों के बारे में अब तक की हमारी सोच को ही बदल देगी। ये 15 आंशिक कंकाल अलग-अलग उम्र के पुरुष, महिला, बुजुर्ग और शिशुओं के हैं।

नालेदी मानव और आधुनिक मानव खोपड़ी

नालेदी मानव और आधुनिक मानव खोपड़ी

ये अध्ययन ‘ईलीफ़’ नामक जनरल में छपा है। इस प्रजाति का नाम ‘नलेदी’ बताया गया है और इनका वर्गीकरण, होमो समूह में किया गया है। मानव इसी समूह में वर्गीकृत किए जाते हैं।हालांकि इस प्रजाति की खोज करने वाले शोधकर्ता अभी तक इस बात का पता नहीं लगा पाए हैं कि ये प्रजाति कितने समय तक ज़िंदा रही।

इस शोध का नेतृत्व करने वाले प्रोफ़ेसर ली बर्जर ने बीबीसी न्यूज़ को बताया कि ये मानव के पूर्वज हो सकते हैं और उम्मीद है कि ये अफ़्रीका मे 30 लाख साल पहले तक रहे हों।

नालेदी मानव और आधुनिक मानव पैर

नालेदी मानव और आधुनिक मानव पैर

प्रोफ़ेसर बर्जर का कहना है कि नलेदी को दो पांव पर चलने वाले प्राचीन नरवानर और मानव के बीच एक ”पुल” के तौर पर देखा जा सकता है। प्रोफ़ेसर बर्जर के अनुसार वो वहां गए तो एक जीवाश्म को निकालने के विचार से थे, लेकिन धीरे-धीरे उन्हें वहां कई जीवाश्म मिले और आख़िर में उन्हें ढेर सारे कंकाल मिल गए। उनके अनुसार 21 दिनों के अनुभव के अंत में उन्हें सबसे बड़ा मानव जीवश्म मिला जिसे अफ़्रीकी महाद्वीप के इतिहास में सबसे बड़ी खोज माना जा रहा है।

नालेदी मानव और आधुनिक मानव पंजा

नालेदी मानव और आधुनिक मानव पंजा

नेचुरल हिस्ट्री म्यूज़ियम के प्रोफ़ेसर क्रिस स्टिंगर का कहना है कि ”नलेदी एक महत्वपूर्ण खोज है।”

प्रोफ़ेसर बर्जर के अनुसार, ”हम प्रजाति के बारे में सबकुछ जान पाएंगे। हम ये जानेंगे कि बच्चों का कब जन्म हुआ, उनका विकास कैसे हुआ, किस गति से उनका विकास हुआ और शिशु के पैदा होने के बाद किसी पुरुष और महिला के बीच हर स्तर पर कैसे विकास हुआ।”

जोहानिसबर्ग से 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित राइजिंग स्टार गुफा में ये हड्डियां पाई गईं। खोजकर्ताओं ने हड्डियों के 1,500 से अधिक टुकड़े पाए, जो कम से कम 15 लोगों के हैं। ये अवशेष शिशुओं, किशोरों व एक बेहद बुजुर्ग के हैं। गुफा में अभी भी हड्डियों के एक हजार टुकड़े मौजूद हैं, जो धूल से ढके हैं। नैशनल जियोग्राफिक द्वारा वित्त पोषित परियोजना के कर्मियों का मानना है कि ये अवशेष प्राचीन मानव की नई प्रजातियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इंसान की तुलना में उंगलियां छोटी और टेढ़ी हैं।

उन्होंने इनका नाम “होमो नालेदी” रखा है, जिसमें नालेदी का मतलब तारा होता है और यह दक्षिण अफ्रीका की स्थानीय भाषा का एक शब्द है।

शोधकर्ताओं का मानना है कि यह मानव प्रजाति जिसे नलेदी कहा जा रहा है अपने मृतको को दफ़नाती थी। इससे पहले यह माना जाता था कि यह व्यवहार केवल मानवो मे ही था। शोधकर्ता इस निश्कर्ष पर एक गुफ़ा मे एक साथ पाये गये नवजात, बच्चो, युवा और बुढे व्यक्तियों के कंकालो के आधार पर पहुंचे है। यह गुफ़ा जमीन की सतह के तीस मिटर नीचे पायी गयी है। शायद होमो नालेदी इस गुफ़ा मे प्रकाश के लिये आग का प्रयोग करता रहा होगा। इन जीवश्मो पर किसी नरभक्षी प्राणी के हमले के कोई निशान नही है, जिससे कीसी नरभक्षी प्राणी द्वारा इन अवशेषो को गुफ़ा मे लाये जाने की संभावना समाप्त हो जाती है। इस गुफ़ा मे ये कंकाल इन व्यक्तियों की मृत्यु के पश्चात दफ़नाने की वजह से ही आ सकते है। इस गुफा मे इन कंकालो का एक साथ पाये जाने का कोई और कारण शोधकर्ता को दिखायी नही दे रहा है।

होमो नालेदी पाषाण युगीन मानव प्रजाती और आधुनिक मानव प्रजाति का खूबसूरत मिश्रण हओ। नलेदी का मस्तिष्क संतरे के आकार का रहा होगा। उसके हाथ मानव के जैसे ही है लेकिन उंगलीयों मे वक्रता है। जो कि वृक्शःअ पर चढ़ने वाली प्रजातियों मे देखी जाती है। नलेदी की उंचाई पांच फ़ीट रही होगी, जोकि वानरो की तुलना मे अधिक है। उसके पैर और पंजे मानवो के जैसे ही है, इससे प्रतित होता है कि वे दोनो पैरो पर खड़े होकर लंबी दूरीयाँ तय करते रहे होंगे।

वैज्ञानिको के अनुसार होमो नलेदी हमारी प्रजाति का सबसे प्राथमिक सदस्य लगता है जिसमे इतने मानव के जैसे गुण है कि उसे होमो जीनस मे रखा जा सकता है।

वहीं मानव उत्पत्ति पर शोध करने वाले अन्य विशेषज्ञों का कहना है कि अब तक मिले सबूतों के आधार पर यह दावा अनुचित है। हड्डियों के बारे में उनका तर्क है कि ये मानव की हड्डियों के समान हैं।।।इसके दांत साधारण व छोटे हैं। छातियां प्राचीन व लंगूरों की तरह हैं, लेकिन हाथ बेहद आधुनिक हैं। हड्डियों की माप से यह बात सामने आई है कि ये प्राणी प्राचीन लंगूरों व आधुनिक मानव के मिले-जुले रूप हैं। इसका मस्तिष्क छोटा है और गोरिल्ला के आकार का है। ऐसी रचनाएं लंगूरों में देखी जाती है, जो अपना अधिकांश समय पेड़ पर व्यतीत करते हैं।

This slideshow requires JavaScript.

3 विचार “नयी मानव प्रजाति की खोज : होमो नालेदी(Homo Naledi)&rdquo पर;

इस लेख पर आपकी राय:(टिप्पणी माड़रेशन के कारण आपकी टिप्पणी/प्रश्न प्रकाशित होने मे समय लगेगा, कृपया धीरज रखें)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s