ताराहुमारा : 435 मील मैराथन के धावक


ताराहुमारा धावक

ताराहुमारा धावक

रारामुरी या  ताराहुमारा मेक्सीको के मूल निवासी है। रारामूरी का उनकी भाषा मे अर्थ “पैदल धावक” या “तेज धावक” होता है। ये लोग लंबी दूरी की दौड़ के लिये प्रसिद्ध है। इस जनजाति के धावक 435 मील तक की दौड़ एक बार मे पूरी करते हैं। यह दौड़ 10 मैराथन के बराबर है। 435 मील की मैराथन 2 दिन मे पूरी होती है और नदियो, दर्रो और घाटियो के मध्य से गुजरती है।
ताराहुमारा जनजाति के लोग इतनी लम्बी दूरी कैसे तय कर पाते है?

वैज्ञानिक शोधो से आये कुछ निष्कर्ष:

1. मानव शरीर लम्बी दूरी की दौड़ दौड़ने के लिये पुर्णतः अनुकुल है। आदिम काल मे मानव को हर कार्य दौड़ कर ही करना होता था। हिंसक पशु का हमला होने पर बचाव के लिये दौड़ो, दूसरे कबीले का हमला, बचाव के लिये दौड़ो भागो। शिकार के लिये दौड़ो और शिकार करो। आदिम काल मे मानव शिकार के पीछे दौड़ता था। चौपाये पशुओ मे पसीना नही निकलता, जिससे दौड़ते समय उनका शरीर गर्म हो जाता है और वे ज्यादा दूरी तक दौड़ नही पाते है। इसके विपरित मानव शरीर से पसीना निकलता है जो दौड़ते समय शरीर को ठंडा करता है और मानव लंबी दूरी तक दौड़ने मे सक्षम है। कुछ पशु जो मानव से कहीं अधिक गति से दौड़ते है अपनी गति ज्यादा समय तक बनाये नही रख सकते है। इसका लाभ उठाकर मानव अपने शिकार को दौड़ा दौड़ा कर थका देता था और उसके थक जाने पर उसे मार देता था या पकड़ लेता था।

2.वैज्ञानिको की गणना के अनुसार 435 मील की दौड़ के लिये लगभग 46,000 किलो कैलरी की आवश्यकता होती है। हमारे शरीर को उर्जा कार्बोहाड्रेट्स और शर्करा के रूप मे चाहीये होती है। दौड़ने के लिये इतनी सारी उर्जा प्राप्त करने के लिये ताराहुमारा के धावक मक्के से बनी एक विशेष बीयर पीते है। एक धावक लगभग ४ लीटर बीयर पी जाता है। यह बीयर कार्बोहाड्रेट्स और शर्करा का एक बेहतरीन श्रोत है जबकि इसमे शराब (अल्कोहल) की मात्रा नगण्य होती है।

ताराहुमारा धावक की चप्पले

ताराहुमारा धावक की चप्पले

3.ताराहुमारा के धावक या तो नंगे पांव दौड़ते है या एक विशेष प्रकार की चप्पल पहनते है। ताराहुमारा के धावको ने यहां आधुनिक जूतो मे भी खोट निकाली है। आधुनिक जूतो से दौड़ेने पर हमारा पैर एड़ी के बल जमीन पर गिरता है, जबकी नंगे पांव दौड़ने पर अगले पंजो पर। एड़ी मे झटका सहन करने की क्षमता पंजो की तुलना मे कम होती है। पंजो के बल दौड़ने से शरीर की मांसपेशीयो और जोड़ो मे टूटफूट कम होती है, जबकि आधुनिक जूतो से यह ज्यादा होती है।

4. ताराहुमारा जनजाति ने लम्बी दूरी की इन दौड़ो को धर्म से जोड़ रखा है। उनके धार्मिक रीती-रिवाजो का यह एक अनिवार्य अंग है !
क्या सोचते है आप ? जूते उतारिये और निकल पड़ीये दौड़ने ! हां बियर मत पिजीये , पीना है तो मेक्सीको से मक्के वाली बीयर मंगवा लिजिये !

Advertisements

3 विचार “ताराहुमारा : 435 मील मैराथन के धावक&rdquo पर;

  1. अच्छी जानकारी मिली मैँ जानना चाहता हूँ कि जमीन पर दो स्थानोँ के बीच की अधिकतम 300मीटर की दूरी को आधुनिक गैजेट/उपकरण से नापने के लिये कौन सा गैजेट अधिक ठीक होगा 1-laser distance meter 2-laser range finder 3- golf laser range finder प्लीज मुझे मेल करके कोई जानकार व्यक्ति अवश्य बतायेँ मैँ आभारी रहूँगा(प्रभाकर विश्वकर्मा ps50236@gmail.comमोबाइल08896968727

    Like

इस लेख पर आपकी राय:(टिप्पणी माड़रेशन के कारण आपकी टिप्पणी/प्रश्न प्रकाशित होने मे समय लगेगा, कृपया धीरज रखें)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s