पंख और हथौड़ा मे से पहले ज़मीन पर कौन पहुँचेगा ?


यदि आप एक हथौड़े और एक पंख को कुछ ऊंचाई से एक साथ छोड़े तो सबसे पहले ज़मीन पर कौन पहुंचेगा ? पृथ्वी पर निश्चय ही हथौड़ा पहुंचेगा लेकिन पंख पर वायु के अधिक प्रतिरोध के कारण। चंद्रमा के जैसी वायुरहित स्थिति मे दोनो एक साथ जमीन पर पहुचेंगे। गैलीलीयो के पूर्व वैज्ञानिक इस प्रयोग के परिणामो पर चकित थे, उन्होने पाया था कि वायु के प्रतिरोध की अनुपस्थिति मे सभी पिंड एक ही गति से नीचे गिरेंगे। गैलीलीयो ने भिन्न द्रव्यमान के धातु के गोलो को ऊंचाई से गिरा कर यह प्रयोग किया था और पाया था कि वे समान गति से गिरते है। लोककथाओं के अनुसार गैलीलीयो ने यह प्रयोग पीसा की झुकी मीनार से किया था लेकिन इस कथा की प्रामाणिकता पर संदेह है।

इस तरह के प्रयोग के लिए सर्वोत्तम स्थान चंद्रमा है ,जहां पर वायु प्रतिरोध नही है। 1971 मे अपोलो 15 के अंतरिक्ष यात्री डेवीड स्काट ने एक हथौड़ा और पंख चंद्रमा की सतह पर कुछ ऊंचाई से छोड़ा था, यह विडीयो उसी प्रयोग का है। गैलीलीयो और आइंस्टाइन के जैसे वैज्ञानिको के अनुमान के अनुसार दोनो पंख और हथौड़ा चंद्रमा की सतह पर एक साथ पहुंचे थे। इस प्रयोग ने सिद्ध किया था कि समानता सिद्धांत(equivalence principle) के अनुसार गुरुत्वाकर्षण द्वारा उत्पन्न त्वरण पिंड के द्रव्यमान, घनत्व, संरचना, रंग आकार या किसी अन्य गुण पर निर्भर नही है। समानता सिद्धांत(equivalence principle) आधुनिक भौतिकी मे इतना महत्वपूर्ण है कि इस पर वर्तमान मे भी बहस और प्रयोग होते हैं।

Advertisements

14 विचार “पंख और हथौड़ा मे से पहले ज़मीन पर कौन पहुँचेगा ?&rdquo पर;

  1. Hello guruji,
    अगर कोई तारा हमसे 4 प्रकाशवर्ष की दुरी पर है।
    और अभी उसमे विस्फोट होकर उसकी मृत्यु हो जाती है, तो हमें वो विस्फोट अभी दिखाई देगा या 4 साल बाद।

    Like

  2. गुरूजी,
    सभी कहते है कि वृक्ष हमें ऑक्सिजन देता है।
    लेकिन मैंने ये भी सुना है कि वृक्ष रात में ऑक्सीजन लेता है और कार्बन डायोक्षैड छोड़ता है।

    तो फिर हमें वृक्ष से ऑक्सीजन कैसे मिलता है, मतलब जितना वो ऑक्सीजन देता है उतना ही रात जो लेता है।

    Like

    • धवल, सभी जीवित वनस्पति और प्राणी श्वसन करते है। यह दिन रात हमेशा चलने वाली प्रक्रिया है, इसमे आक्सीजन ग्र्हण की जाती है और कार्बन डाय आकसाईड उत्सर्जन होता है।

      पौधे इसके अतिरिक्त केवल दिन मे प्रकाश संश्लेषण करते है जिसमे कार्बन डाय आक्साईड ग्रहण करते है और आक्सीजन उत्सर्जन करते है।

      यदि हम दोनो प्रक्रियाओं को जोड़ दे, तो कुल उत्सर्जित आक्सीजन की मात्रा ग्रहण की गई आक्सीजन की मात्रा से अधिक होती है।

      Like

इस लेख पर आपकी राय:(टिप्पणी माड़रेशन के कारण आपकी टिप्पणी/प्रश्न प्रकाशित होने मे समय लगेगा, कृपया धीरज रखें)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s