सुपरनोवा के अवशेष

खगोल भौतिकी 21 : सुपरनोवा और उनका वर्गीकरण


लेखिका:  सिमरनप्रीत (Simranpreet Buttar) जब भी हम रात्रि आकाश मे देखते है, सारे तारे एक जैसे दिखाई देते है, उन तारों से सब कुछ शांत दिखाई देता है। लेकिन यह सच नही है। यह तारों मे होने वाली गतिविधियों और हलचलो की सही तस्वीर नही है। तारों की वास्तविक तस्वीर भिन्न होती है। हर तारा…

M82 आकाशगंगा का हब्बल दूरबीन से लिया चित्र

नया सुपरनोवा: M82 आकाशगंगा मे एक श्वेत वामन तारे की मृत्यु


अंतरिक्ष और खगोल भौतिकी मे रूची रखने वालो के लिये एक बेहतरीन समाचार है। हमारी आकाशगंगा मंदाकिनी की पडोसी आकाशगंगा M82(Messier 82 ,NGC 3034, Cigar Galaxy या M82) मे 22 जनवरी को एक सुपरनोवा विस्फोट देखा गया है। इस सुपरनोवा विस्फोट की दीप्ति इतनी अधिक है कि इसे छोटी दूरबीन से भी देखा जा सकता…

एन जी सी 5584: हब्बल स्थिरांक की गणना


खूबसूरत आकाशगंगा एन जी सी 5584 यह 50,000 प्रकाशवर्ष चौडी़ है और पृथ्वी से 720 करोड़ प्रकाशवर्ष दूर कन्या नक्षत्र मे स्थित है। इस महाकाय आकाशगंगा की पेंचदार बांहो मे ढेर सारे नये नवजवान तारे तथा धूल से भरी गलीयां है। यह आकाशगंगा पृथ्वी की ओर से स्पष्ट दिखायी देने वाली एक और खूबसूरत आकाशगंगा ही नही…