एन जी सी 1512 का चित्र, विभिन्न फिल्टरो के प्रयोगों से

फिल्टर और प्रकाश : हब्बल अंतरिक्ष वेधशाला चित्र कैसे लेती है? : भाग 2


किसी ब्रह्मांडीय पिंड से आने वाला प्रकाश रंगो की विस्तृत श्रेणी मे आता है, जिसमे से हर रंग विद्युत चुंबकिय विकिरण की एक विशिष्ट तरंग से संबधित होता है। हब्बल अंतरिक्ष वेधशाला दृश्य प्रकाश की तरंगो के अतिरिक्त अन्य हजारों तरह की तरंगो जैसे अवरक्त, पराबैंगनी तरंगो को भी ग्रहण कर सकता है। [इस लेख को पढ़ने…

हब्बल अंतरिक्ष वेधशाला

हब्बल अंतरिक्ष वेधशाला चित्र कैसे लेती है?


अंतरिक्ष ब्लाग पर आपने ब्रह्मांडीय पिंडो की खूबसूरत तस्वीरे देखी होंगी। इन अद्भुत ,विहंगम ,नयानाभिराम चित्रो और उनके मनमोहक रंगो, आकृतियों को देखकर विश्वास नही होता कि ब्रह्माण्ड मे रंगो की छटा इस तरह बिखरी पड़ी है। आईये जानते है कि यह चित्र कैसे लिए जाते है ? क्या इन चित्रो के रंग वास्तविक होते है ?

सिंह त्रिक (Leo Triplet)


पृथ्वी से 35 महाशंख (350 quintillion or 350 x 1018 ) ) किमी दूरी अर्थात 350 लाख प्रकाशवर्ष दूरी पर स्थित यह तीन आकाशगंगाओ का समूह सिंह त्रिक (Leo Triplet) कहलाता है! ब्रह्मांडीय दूरीयो के संदर्भ मे यह एक बहुत छोटी दूरी पर स्थित आकाशगंगाओ का समूह है। यह तीनो आकाशगंगाये हमारी आकाशगंगा ’मंदाकिनी’ के जैसे स्पायरल के आकार…