तु मेरे सामने, मै तेरे सामने : एक या दो आकाशगंगा(एँ) ?


यह चित्र एन जी सी 3314 का है। लेकिन यह है क्या ? चित्र के अनुसार यह एक आकाशगंगा लग रही है। लेकिन यह एक नही दो आकाशगंगायें है और दोनो आकाशगंगाओं के मध्य 230 लाख प्रकाशवर्ष अंतर है। यह एक संयोग है कि यह दोनो आकाशगंगायें पृथ्वी से देखे जाने पर एक ही रेखा…

हमारी पृथ्वी

ब्रह्माण्ड मे पृथ्वी की स्थिति


ब्रह्माण्ड! कितना विशाल है यह ब्रह्माण्ड! हमारी कल्पना से कहीं अधिक! चलीये अपने ब्रह्माण्ड की सैर पर। प्रारंभ करते है हमारी अपनी पृथ्वी से! अंतरिक्ष की गहराई मे एक खूबसूरत नीली गेंद। सभी चित्रो को पूर्णाकार मे देखने के लिए उनपर क्लीक कर के देंखे!

अंतरिक्ष में अमरीका के प्रभुत्व का का अंत : अटलांटिस सकुशल वापिस


अमरीकी अंतरिक्ष यान अटलांटिस अपनी अंतिम उड़ान एसटीएस 135 की समाप्ति पर 21 जुलाई 2011 को धरती पर फ्लोरिडा में कैनेडी स्पेस सेंटर में उतर गया है। इसके साथ ही मानव के अंतरिक्ष अभियान में अमरीका के प्रभुत्व का एक दौर ख़त्म हो गया है क्योंकि इसके साथ ही अमरीकी अंतरिक्ष केंद्र नासा का तीस…

प्लूटो के नये चंद्रमा की खोज


खगोलशास्त्रियों ने हबल अंतरिक्ष दूरबीन की मदद से सौर मंडल के बौने ग्रह प्लूटो के एक और चंद्रमा की पहचान की है। हबल दूरबीन ने पी4 को अपने नए वाइड फ़ील्ड कैमरा से पहली बार 28 जून 2011 को देखा था। जुलाई 2011 में उसके और पर्यवेक्षण होने के बाद उसके अस्तित्व की पुष्टि कर…

पीएसएलवी सी 17: तीन महिला वैज्ञानिको के हाथ जीसैट 12 की कमान


दिनांक 15 जुलाई 2011 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने पीएसएलवी सी-17(Polar Satelite Launch Vehical-PSLV C17) के ज़रिए संचार उपग्रह जीसैट-12(GSAT-12) को अंतरिक्ष में स्थापित करने में सफलता प्राप्त की है। इसरो के श्रीहरिकोटा रेंज से उपग्रह को प्रक्षेपित किया गया और पूरी प्रक्रिया बिना किसी रुकावट के पूरी हुई। जीसैट-12 में 12 सी-ट्रांसपांडर्स हैं…

विकिरण(Radiation) क्या होता है?


विकिरण (Radition) यह शब्द आजकल भयावहता उत्पन्न करता है। जब भी हम इस शब्द को सुनते है, हमारी आंखो के सामने कैंसर के मरीज, हिरोसीमा और नागासाकी के परमाणु बम द्वारा उत्पन्न विध्वंस आ जाता है। आधुनिक मीडीया भी हमारे इस भय को बढाने का काम करता है। ज्यादा दिन नही गुजरे है जब जापान मे आयी सुनामी के…

दक्षिणी वलय निहारिका(Southern Ring Nebula)


यह एक ग्रहीय निहारिका है जो एक तारे की मृत्यु के पश्चात बनी है। इस निहारिका का नाम एन जी सी 3132 है। इसे दक्षिणी वलय निहारिका(Southern Ring Nebula) भी कहा जाता है। इसे निर्माण करने वाला श्वेत वामन तारा इस चित्र के मध्य मे दिखने वाला धुंधला तारा है। तेज चमक वाला तारा इस…